राजनीती में आने से पहले राहुल अपना करियर बना चुके थे - जानिए क्या करते थे

राहुल गाँधी पहले दादी को खोया फिर पिता को फिर भी पढ़े लिखे कामयाब हो गए 


राहुल गाँधी ने भारतीय राजनीति और इतिहास के गहरे जुड़ाव के साथ साथ सामाजिक ताने बाने के प्रति अपनी समझ मज़बूत की है। अपने पिता और दादी दोनों को हिंसा और नफरत की घटनाओं में खोने केबाद भी वो हमेशा अहिंसा और सत्य के साथी रहे। 
https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html


राहुल गाँधी का जन्म 19 जून 1970 में हुआ। उनका बचपन दिल्ली और देहरादून गुज़रा। उन्होंने अपनी शुरुवाती पढ़ाई दिल्ली के मॉर्डन स्कूल से की फिर सुरक्षा कारणों से आगे की पढाई के लिए दून पब्लिक स्कूल देहरादून चले गए। उनके पिता ने भी यंहा से पढ़ाई की थी।  1984 में अपनी दादी इंदिरा गाँधी की हत्या होने पर उनको अपनी पढ़ाई घर से ही करनी पड़ी। 
https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html


अपने कैरियर की शुरुवात उन्होंने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से की। अपने सुरक्षा कारणों से दुसरे साल में वो अमेरिका चले गए। उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ,अमेरिका में एड्मिशन लिया। फिर अपने पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या होने बाद सुरक्षा कारणों से स्नातक के दूसरे वर्ष में फ्लोरिडा के रोलिंस कॉलेज में ट्रांसफर करा लिया । राहुल गांधी ने सन 1994 में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। एक साल बाद राहुल गाँधी ने ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज से एम. फिल की डिग्री प्राप्त की। 
https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html


राहुल अपना करियर बनाने के लिए पुरे अडिग थे।वो लंदन में एक मैनेजमेंट काउंसलिंग ग्रुप से जुड़े।  तीन साल यंहा काम करने बाद वो भारत लोट आये ,उन्होंने मुंबई में अपनी खुद की प्रौद्योगिकी परामर्श  कम्पनी बनाई ,जिसमे उन्होंने निदेशक के रूप में काम करके अपने टीम का नेतृत्व किया। राहुल गाँधी हमेशा जानते थे की तकनीक के सही इस्तेमाल से भारत के लोगों की तसवीर बदली जा सकती है ,उनको मज़बूती दी जा सकती है। 
https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html



2004 में अपने पिता की विरासत को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने अपने पिता की सीट अमेठी से चुनाव लड़ा ,उनको 390179 वोट मिले , उन्होंने बहुजन समाज पार्टी के नेता को 2 ,90 ,853 वोट से हराया। 

2009 में उनको 464195 वोट मिले , उन्होंने बहुजन समाज पार्टी के नेता को 3 ,70,198 वोट से हराया। 

2014 में उनको 408651 वोट मिले , उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेता को 1,07,903 वोट से हराया। इस साल उनकी जीत का अंतर कम हो गया। 

2019 में अमेठी में उनको हर का सामना करना पड़ा। उनको वोट मिले 412867 , भारतीय जनता पार्टी के नेता को मिले 467598 , उनको 54,731 वोट से हार का सामना करना पड़ा। 

उन्होंने दो सीट पर चुनाव लड़ा था। दूसरी सीट केरल के वायनाड से लड़कर उनको 7,06,367 वोट मिले। दुसरे नेता को 274597 वोट मिले। यंहा उन्होंने 431770 वोट से जीत हासिल की। आप वो यंहा से ही सांसद हैं। 

https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html


राहुल गाँधी ने भारत जोड़ो यात्रा की शुरुवात की , उन्होंने कन्याकुमारी से कश्मीर तक पैदल अलग अलग राज्यों से होते हुए यात्रा की। उन्होंने केरल , कर्नाटका , मध्य प्रदेश , आंध्रा प्रदेश , महाराष्ट्र , उत्तर प्रदेश , दिल्ली , हरयाणा ,पंजाब से गुज़रते हुए लोगों से मिलते हुए सड़क मार्ग से पैदल यात्रा कर रहे हैं। 30 जनवरी को यात्रा पंजाब से निकलकर कश्मीर चली जाएगी। यंहा उनकी भारत जोड़ो यात्रा समाप्त हो जाएगी। इस दिन देश की कुछ विपक्षी पार्टी को उन्होंने यात्रा समापन वाले दिन एक जगह होकर आने का न्योता दिया हैं। 
https://www.digitalgaanv.in/2023/01/rahulgandhikibharatjodoyatra.html


टिप्पणियाँ